Sun. Jan 26th, 2020

DAINIK AYODHYA TIMES

NEWS CHANNEL

लव-जिहाद धोखा और बेरहमी से हत्या

1 min read

बैराज में अज्ञा महिला का शव मिला

नेहा की तमन्ना थी निकाहनामा की,शौहर ने दिया मौतनामा।

नेहा की हत्या में शाहनवाज और शरीफ पुलिस की हिरासत में. hod

सुहाग जोड़े के साथ हाथों में लगी मेहंदी,शरीर पर अनगिनत चोटे और गले को बेरहमी से घोटकर हत्या। 27 दिसंबर को महिला का शव झाड़ियों में फेंके जाने की सनसनीखेज हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा,शौहर ने कि थी अपनी दूसरी पत्नी की बेरहमी से हत्या, पत्नी के पैसे से हत्यारे शौहर ने कार खरीद कर खौफनाक घटना को दिया अंजाम,गंगा बैराज सिंहपुर रोड पर झाड़ियों में शव को फेंका। पकड़े गए अपराधियों ने गहनों की बरामदगी के दौरान पुलिस पर फायरिंग जिस पर पुलिस ने जवाबी फायरिंग कर पैर पर चलाई गोली अपराधियों को किया गिरफ्तार।

संवाददाता:हरिओम द्विवेदी:- कानपुर थाना नवाबगंज अंतर्गत गंगा बैराज सिंहपुर रोड पर महिला का शव बरामद होने से क्षेत्र में दहशत और रोष व्याप्त था। जिस को ध्यान मेें रखते हुए नवाबगंज पुलिस ने टीम गठित कर अपराधियों की धर पकड़ के लिए सराहनीय कार्य किया और जिसकी कामयाबी एक के बाद एक नवाबगंज पुलिस को मिलती गई। आजमगढ़ निवासी नेहा और सीता की गला घोटकर हत्या करके शव को सिंहपुर बैरााज मार्ग स्थित झाड़ियों में बीते 27 दिसंबर को बेदर्दी से मार कर फेंका था। पुलिस ने हत्यारोपी पति बजरिया के शौकत अली पार्क निवासी शाहनवाज और निवास चकेेरी सरैया बहनोई  मोहम्मद आमिर को गिरफ्तार किया गया,उनके पास से हत्या में प्रयुक्त कार भी बरामद हुई।पूछताछ के दौरान पति शहनवाज ने पुलिस के सामने अपराध कबूल करते हुए बताया कि हत्या के बाद  नेहा के जेवर और टमंंचा को झाड़ी में छुपाया। जब पुलिस नेे घटनास्थल पर अपराधियों को लेकर पहुंची जेवर बरामद के लिए तो अपराधियोंं ने झाड़ियों में छुपे तमंचे से पुलिस पर हमला बोल दिया। इस पर पुलिस ने जवाबी कार्रवाई करते हुए गोली चलाई जो कि शहनवाज के पैर में गोली लगने से घायल लहूलुहान शहनवाज को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। वही नेहा के गहनों के साथ तमंचा बरामद हुआ। वही शहनाज के दोस्त  हसीब, और कार के मालिक जीशान फरार हैं जिन को गिरफ्तार करने केे दबिश दी जा रही है।

  • लव और खूनी दगाबाजी

नेहा से फोन पर दोस्ती और प्रेम जाल में ऐसी फंसी, फिर लव जिहाद से भरा प्रेम जाल में निकल ना पाई।

पहले तो फोन से दोस्ती होने पर शाहनवाज ने खुद को नेक बताने में कोई कोर कसर ना बाकी रखी। अंबेडकर नगर के मसखारी निवासी बहन सुशीला की मौजूदगी में नेहा और शहनवाज का निकाह मौलवी ने 21 जून को कराया था। सुशीला के मुताबिक क्रिसमस वाले दिन सुबह नेहा का फोन आया था। उससे बात करने से साफ झलक रहा था कि वह इस शादी को लेकर काफी खुश थी। नेहा ने बहन को बताया कि शाहनवाज 27 दिसंबर को उसे घरवालों से मिलाने ले जा रहा है। नेहा की बहन ने बताया इससे पहले भी शाहनवाज से कई बार बात हुई लेकिन उसकी बात से कभी भी यह एहसास नहीं हुआ कि शहनवाज इतना खतरनाक इरादा रखकर घटना को अंजाम देगा।

  • नेहा थी शेरनी

नेहा अपने विचारों और उसूलों की पक्की थी। जब शाहनवाज से नेहा का प्यार हुआ उसके बाद से नेहा ने परिवार से मिलने की जिद कर रखी थी। जिससे कहीं ना कहीं शाहनवाज की चिंता बढ़ती नजर आ रही थी। कई बार नेहा के दबाव डालने के बावजूद शहनवाज ने परिवार से नहीं मिलाया। शाहनवाज पहले से शादीशुदा था जिसके चलते शहनवाज ने नेहा को अपने घर वालों से ना मिलाने की ठान ली। जिस पर नेहा ने कड़ा रुख अपनाते हुए शहनवाज को धमकाया उसके बाद से शहनवाज ने नेहा को ठिकाने लगाने का प्री प्लान बना लिया। नेहा को मारने के लिए शहनवाज ने नेहा से ही ₹ दश हजार लेकर किराए पर जीशान से कार ली थी। और अपने घर से तमाम गहने भी लेने की बात नेहा से कर मन वाली थी। नवाबगंज स्पेक्टर के मुताबिक हत्या के बाद शहनवाज ने नेहा के शरीर से जेवर उतार लिए थे पुलिस से बचने के लिए जेवर ओं को छुपा दिया गया। और उसे बेरहमी से अपने बहनोई के साथ अन्य साथियों के सहयोग से एक असहाय महिला को कार के अंदर ही मारने का भरसक प्रयास किया जिसके जवाब में नेहा ने सभी अपराधियों से घंटों मुकाबला करा लेकिन ज्यादा देर तक वह अपनी रक्षा नहीं कर सकी। जिसका सबूत उसके जिस्म पर चीख चीख कर बयां कर रहा था कई चोटों के निशान गंभीर घाव यह सब बयां कर रहे थे 1 घंटों एक अकेली महिला ने कई अपराधियों से अपनी जान बचाने के लिए संघर्ष किया। अंततः गला घुटने के कारण नेहा का दम घुट गया।और उसका शरीर शांत हो गया। सुनसान इलाका देख अपराधियों ने नेहा को झाड़ियों में फेंक कर वहां से फरार हो गए।

  • सोशल मीडिया पर नेहा की तस्वीर वायरल मकान मालिक की सूझबूझ से कातिल गिरफ्तार-

नवाबगंज पुलिस प्रदेश हालत में नेहा का शव मिला उसे देखकर और शिनाख्त कराने के प्रयास में पुलिस ने एड़ी से चोटी तक प्रयास कर लिया लेकिन कामयाबी मिल ना सकी तभी शहनवाज मकान मालिक नवाबगंज पुलिस के लिए सीढी बन गया। फिर क्या नवाबगंज पुलिस के हाथ मुख्य अपराधी पकड़ में आ गया। नवाबगंज पुलिस की यह बड़ी कामयाबी हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *