Mon. Dec 9th, 2019

DAINIK AYODHYA TIMES

NEWS CHANNEL

भारतीय बाल रोग अकादमी द्वारा काफ्रेंसका आयोजन

1 min read
HARI OM GUPTA


कानपुर नगर, भारतीय बाल रोग अकादमी, बाल रेाग विभाग एवं मेडिसन विभाग द्वारा पीडियाट्रिक न्यूरोअपडेट स्टेट की पहली काफ्रंेस का आयोजन किया गया, जिसमें मुख्य अतिथि आईआईटी डायरेक्टर अभय करनडीकर, गेस्ट चीफ आॅनर डा0 एमएम मैथानी, डा0 वीएन त्रिपाठी, डा0 आरएन चैरसिया उपस्ािित रहे। कार्यक्रम का संचालन डा0 एके आर्या, डा0 आलाक वर्मा, डा0 ओपी पाठक, डा0 आशीष विश्वास, डा0 रिचा गिरी, डा0 आलेाक, डा0 राज तिलक, डा0 क्षितिज, डा0 रूपा डालमिया तथा डा0 शाइनी सेठी ने कहया। प्रो0 रश्मि कुमार, डा0 जेएन गोस्वामी, डा0राहुल जैन, डा0 विशाल सोंधी, डा0प्रशान्त जौहरी ने अपना व्याख्यान दिया।

डा0 रश्मि कुमार ने बताया अभिभावक अपने शिशुओं को प्रोटीन काब्रेाहइड्रेट और फैट पर तो ध्यान देते है, जिससे उनका शारीरिक विकास तो नजर आता है लेकिन जिंक आयरन, कैल्सियम, विटामिन देने पर कम ध्यान देेते है जिससे शिषु का मानसिक विकास प्रभावित होता है और समय से यह विकास नही हुआ तो भविष्य में कवर करना नामुमकिन हो जाता है। डा0रहाुल ने बताया एक अनुमान के अनुसार स्कूल के बच्चों को एडीएचडी 4 प्रतिशत से 12 प्रतिशत के बीच प्रभावित करता है। लउकियो ंकी तुलना में लडकों को ये समस्या ज्यादा होती है। एम्स दिल्ली के डा0 प्रशान्त ने बताया कि पोलिया एक संक्रामक रोग है जो पोलियों विषाणु से मुख्यतः छोटे बच्चों में हेाता है। यह बीमारी बच्चे के किसी भी अंग को जिन्दगी भर के लिए कमजोर कर देती है। डा0 विशाल ने बताया मिर्गी न्यूरो से जुडी एक बीमारी है यदि सही समय पर सही इलाज हो तो मरीज समानय जिन्दगी जी सकता है। डा0 जेएन गोस्वामी ने बताया कि दिमागी बुखार को इन्र्सेफेलाइटिस और मस्तिष्क ज्वर, ब्रेन फीवर के नाम से जाना जाता है। इसकी काॅमन वजह वायरल इन्फेंशन होता है। साथ ही वैक्टीरिया और फंगस की वजह से भी दिमागी बुखार की समस्या हो सकती है। कार्यक्रम में डा0 आरपी सिंह, डा0 नेहा अग्रवाल, डा0 एससी मिश्रा, डा0 जेके गुप्ता, डा0 विवेक सक्सेना, डा0 दीपक संखवार आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *