Sun. Jan 19th, 2020

DAINIK AYODHYA TIMES

NEWS CHANNEL

बीस हजार का इनाम हिस्ट्रीशीटर आशुतोष पर घोषित शामली से हुआ पलायन

1 min read

अंतर्राज्यीय बदमाश आशुतोष पर कसा शामली पुलिस का शिकंजा अपराधी पलायन को मजबूर।

हिस्ट्रीशीटर आशुतोष पांडे शामली

 

संवादाता: हरिओम द्विवेदी;- शामली कुकर्मों के लिए कुख्यात, काँधला क़स्बे के अन्तर्राज्यीय हिस्ट्रीशीटर बदमाश *आशुतोष पाण्डेय उर्फ़ अश्विनी उर्फ़ भृगुवंशी आशुतोष पाण्डेय* पर रूपया 20,000/- का ईनाम घोषित होते ही यह *बर्बर-बहुरूपिया-बदमाश कर गया है प्रदेश से पलायन; शामली पुलिस द्वारा इसके छिपने के सभी ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापेमारी बादस्तूर जारी;* ईनाम की धनराशि और भी अधिक बढ़ाए जाने पर हो रहा विचार-मंथन; घर समेत मुसलसल जरायम से हासिल की गई ज़मीन-जायदाद की मुकम्मल कुर्क़ी की भी हो रही है पुख़्ता तैयारी।

यह बात अब बवंडर की माफ़िक़ बख़ूबी बिखर चुकी है कि ऊपर बताए गए बर्बर-बहुरूपिया-बदमाश *हिस्ट्रीशीटर भृगुवंशी आशुतोष पाण्डेय* के ख़िलाफ़ विभिन्न ज़िलों व प्रदेशों में अब तक 19 जघन्य, घिनौने व संगीन मामले तमाम पुलिस थानों में दर्ज हो चुके हैं।

जगह-जगह लोगों में, महिलाओं में, पुरूषों में, बड़े-बूढ़े-बुज़ुर्गों में, गलियों में, क़स्बों में, खेतों में, बाज़ारों में इस इनामिया हिस्ट्रीशीटर बदमाश के बारे में यह चर्चा भी आम हो चुकी है कि इसके ख़िलाफ़ अब तक *गाय व गोवंश की तस्करी (3/5 A, Cow Slaughter Act), बलात्कार का प्रयास (376/511 IPC), हत्या का प्रयास (307 IPC), रंगदारी का अपराध (386 IPC), चार सौ बीसी (420 IPC) व धोखाधड़ी के अन्य तमाम मामले (467, 468, 471 IPC) तमाम पुलिस थानों में दर्ज हो चुके हैं।*

इतना ही नहीं, इस बर्बर-बहुरूपिया-बदमाश के ख़िलाफ़ *साम्प्रदायिक माहौल ख़राब करने का अपराध (153 A IPC), गुण्डा ऐक्ट (UP GOONDA ACT), गैंग्स्टर ऐक्ट (गिरोहबंद अधिनियम), आई टी ऐक्ट (IT ACT), जान-पहचान के निर्दोष लोगों को भी धोखे से अपने घर बुलाकर या उनके घर / ऑफ़िस पर जाकर उन्हें फ़र्ज़ी केस में फँसाने के संगीन व घिनौने अपराधों (420, 211, 342 IPC) समेत मारपीट (323, 324 IPC) के दर्जनों मुकद्में तमाम पुलिस थानों में दर्ज और ‘चार्जशीटेड’ हो चुके हैं।*

*यह बर्बर-बहुरूपिया-बदमाश अपने ख़िलाफ़ व अपने गंदे-गुमराह-गिरोह के अन्य बदनाम-बदमाशों के* ख़िलाफ़ सख़्त क़ानूनी कार्यवाही करने वाले ईमानदार व लोकप्रिय पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों पर अनाप-शनाप-अनर्गल आरोप लगाने का आदी बन चुका है। *377 IPC (अप्राकृतिक यौन संबंध) के फ़र्ज़ी केस लगाना, आय से अधिक संपत्ति की जाँच कराने की गीदड़-भभकी देना, कार्यालय / आवास पर आत्मदाह कर लेने की धमकी देना, मान-हानि का केस करने की धमकी देना, बड़े-बड़े नेताओं / अधिकारियों को गुलदस्ता देने व उनसे शिष्टाचार भेंट करने का माया-जाल बिछाकर बेहद चालाकी से महानुभावों के साथ फ़ोटो खिंचवाकर वायरल करना तथा भोली-भाली आम जनता के साथ छल और ठगी करना इसका पसंदीदा शग़ल व ‘फ़ुल-टाइम’ पेशा होने की बात मुखबिरों द्वारा लगातार बताई जा रही है।*

*इस बीस हज़ारी बर्बर-बहुरूपिया-बदमाश के बारे में कोई भी सूचना मिले तो निम्न मोबाइल नम्बरों पर तत्काल अवगत कराएँ। घबराएँ बिल्कुल नहीं; क्योंकि आपका नाम व आपका मोबाइल नम्बर पूरी तरह से गुप्त रखा जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *