कैंसर की दवा पर भारत में शोध, मरीजों को राहत के साथ जीवनदान!

नयी खोज
कैंसर _2019 hod

विश्व में लगभग 1.7 करोड़ कैंसर के मरीज हैं। हर साल 96 लाख कैंसर पीड़ितों की मौत हो जाती है। कैंसर की रोकथाम और मौत पर नियंत्रण हो जाए, इसके लिए सरकार  एवं समाज सेवी चिकित्सक संस्थानों ने अनेक प्रयत्न किए वहीं पंजाब विश्वविद्यालय (पीयू) के दो वैज्ञानिकों ने बड़ा शोध किया है। इस शोध से कैंसर के मरीजों को राहत मिलती नजर आ रही है। अगर सब ठीक रहा तो जल्द कैंसर से पीड़ित मरीजों को इस जगह बीमारी से छुटकारा मिल जाएगा।

एक जांच में पाया गया कि, पशुओं के पेट के कीड़े मारने वाली दवा फेनबंडाजोल पर भारत में सात साल तक चली रिसर्च (एनिमल स्टडी) के बाद परिणाम बेहतर आए हैं। इस रिसर्च का पता चलने पर कैंसर से हार मान चुके अमेरिका के मरीजों को लगा तो उन्होंने फेनबंडाजोल का प्रयोग किया और चौंकाने वाले नतीजे शत शत प्रतिशत लाभ देने वाले साबित हुए।

इससे करीब 250 से अधिक इलाज करा रहे मरीजों का कैंसर ठीक हो होने से इस महा भयानक बीमारी। वैज्ञानिकों के मुताबिक, मरीजों के प्रैक्टिस का यह तरीका गलत है। उन्होंने सलाह दी है कि जब तक इस दवा पर ह्यूमन स्टडी पूरी नहीं हो जाती तब तक प्रयोग न करें।

पीयू के वैज्ञानिकों ने अब अपने रिसर्च को आगे बढ़ाते हुए इस पर ह्यूमन स्टडी करने का प्रस्ताव तैयार कर भारत सरकार को भेजा है। वैज्ञानिकों का कहना है कि यदि स्टडी पूरी हो गई तो कैंसर पर काबू पाने में हम सफल होंगे और देश के हाथ बड़ी उपलब्धि लगेगी।

फेनबंडाजोल पर हुए रिसर्च के परिणाम सकारात्मक आए हैं। इस पर अब ह्मूमन स्टडी होगी। सफलता मिलने के बाद लाखों कैंसर मरीजों को लाभ मिल सकेगा। – प्रो. अशोक कुमार, चेयरमैन, सेंटर फॉर सिस्टम बायोलॉजी एंड बायोइन्फोर्मेटिक्स पीयू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *