Hai नौकरी Hai नौकरी

रोजगार

नौकरी

यह कैसा लॉजिक है ,

किसी भी सरकारी विभाग की Vacancy निकलती हैं तो उसकी फार्म फीस 500-700 होती ही हैं

सरकार विद्यार्थियों से पैसा कमाना चाहती हैं या उन्हें रोजगार देना ??? अभी तक पता नहीं चला है ।

उदाहरण के लिए:-
पोस्ट होती हैं 50 (Seat)
फॉर्म पूरे भारत से भरवाते हैं ।

फॉर्म फीस होती हैं 500 रु ,
50 लाख से 80 लाख विद्यार्थी फॉर्म भरते हैं

आइये सरकार का फायदा देखते हैं

500 रु फॉर्म फीस × 50,00,000 विद्यार्थीयों ने फॉर्म भरें =
(कुल आय फॉर्म फीस से)
2 अरब 50 करोड़ रु

नौकरी देनी हैं 50 को
सैलेरी 25000 रु प्रति माह मान लेते , ज्यादा मानी गयी हैं इतनी होती नहीं हैं

25000 × 50 लोग = 12,50,000 महीना

12,50,000 × 12 महीने = 1 करोड़ 50 लाख

चालीस साल की नौकरी करने पर
1,50,00,000 × 40 साल = 60 करोड़

सरकार की फॉर्म फीस कुल आय = 2 अरब 50 करोड़ रूपए

अप्पोइंटेड लोगों की 40 साल तक की सैलेरी
60 करोड़ रु

2,50,00,00,000 – 60,00,00,000 = 1,90,00,00,000

सरकार की कुल आय = 1 अरब 90 करोड़ रु

मेरा सवाल – सरकार व विभाग से यह हैं कि आप विद्यार्थीयों को नौकरी देना चाहते हैं या
पैसा कमाना चाहते हैं ???

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *