यूपी सरकार ने कोरोना संक्रमण को लेकर की पूरी तैयारी- स्वास्थ्य मंत्री

उत्तर प्रदेश हरदोई

हरदोई  ।(अयोध्या टाइम्स)विकास खंड कछौना के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गौरी खालसा में स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने मुख्यमंत्री जन आरोग्य मेला का फीता काटकर उद्घाटन किया। जिससे आम जनमानस को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं मिल सकें। सरकार की मंशा है, स्वास्थ्य स्वच्छ प्रदेश हो अपना। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को लेकर पूरी तैयारी है। प्रत्येक जिले में 1600 बेड तैयार किए गए हैं। इस वायरस से डरने की आवश्यकता नहीं है। बचाव के तरीके अपनाकर खुद को स्वस्थ रख सकते हैं। स्वस्थ व्यक्ति को मास्क लगाने की आवश्यकता नहीं है। मास्क की जमाखोरी करने, निर्धारित मूल्य से ज्यादा बिक्री करने पर दुकानदार के खिलाफ कार्यवाही की जाएगी। शासन स्तर पर एक कंट्रोल रूम बनाया गया है। जिस पर कोई सूचना व सुझाव दे सकते हैं। जिसका नंबर 0522-2230006 व 2230009 टोल फ्री नंबर 18001805145 है। भारत सरकार का नम्बर 011-23978046 है। पूरे प्रदेश में संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 12 है। देश में कुल 84 मरीज हैं। दो वृद्ध लोगों की मृत्यु हो गई है। शरीर को स्वास्थ्य रखें, प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर रखें। स्वास्थ्य मंत्री ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में लगे स्टाल आयुष्मान गोल्डन स्वास्थ्य कार्ड की जानकारी लेनी चाही तो आपरेटर ने नेटवर्क की समस्या बताई। इसके बाद परिवार नियोजन के स्टाल पर जानकारी ली। उपस्थित काउंसलर ने बताया कि जनसंख्या नियंत्रण के लिए लोगों को ज्यादा से ज्यादा जागरूक करें। इसके बाद बाल विकास परियोजना विभाग से लगाए गए स्टाल पर जानकारी ली, जहां पर उपस्थित बाल विकास परियोजना अधिकारी विजय तिवारी ने बताया कि पूरे विकासखंड में 634 कुपोषित बच्चे हैं। जिनके स्वास्थ्य के लिए पोषण योजना के माध्यम से स्वस्थ किया जा रहा है। इसके बाद पैथोलॉजी की जानकारी ली। शौचालय में पानी की सप्लाई न होने पर नाराजगी जताई। गर्भवती महिलाओं की जांच व प्रसव की सुविधा की जानकारी ली। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र परिसर में काफी कूड़ा करकट व झाड़ियां खड़ी होने व अधिकांश भवन जर्जर व अनुप्रयोगी पाए जाने पर, उनकी शासन को रिपोर्ट भेज कर मरम्मत कराने की बात कही।
इस निरीक्षण के दौरान डॉक्टर, स्वास्थ्य कर्मी व ऑपरेटर बेहतर परफारमेंस देने का प्रयास कर रहे थे। ग्रामीण क्षेत्र के मरीजों ने बताया कि अगर प्रतिदिन ऐसी स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध होतीं तो हम गरीब लोगों को प्राइवेट डॉक्टर व झोलाछाप डॉक्टरों की शरण में न जाना पड़ता। पूरे प्रदेश में लगभग 7000 डॉक्टर अनुपस्थित चल रहे हैं। जिन्हें बर्खास्त कर नियुक्तियां की जाएं। झाड़-फूंक द्वारा ग्रामीण क्षेत्र में चल रहे अवैध बाबाओं पर बताया कि आस्था अपनी है, परंतु स्वास्थ्य सेवाओं के खिलाफ खिलवाड़ की आजादी किसी को नहीं दी जाएगी।
इस निरीक्षण के दौरान मुख्य चिकित्सा अधिकारी, अधीक्षक डॉक्टर किसलय बाजपेई, बाल विकास परियोजना अधिकारी विजय तिवारी, डॉक्टर इरफान, फार्मासिस्ट, लैब टेक्नीशियन सहित समस्त स्टाफ मौजूद था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *