मोबाइल उपभोक्ताओं को यूआईडीएआई ने दी बड़ी राहत

अन्य ख़बरें अंबेडकर नगर अमरोहा अमेठी अम्बेडकर नगर अरुणाचल प्रदेश अलीगढ़ असम आगरा आगरा आजमगढ़ आज़मगढ़ आध्यात्म आंध्र प्रदेश इटावा इलाहाबाद उत्तर प्रदेश उत्तराखंड उन्नाव एटा ओडिशा औरैया कन्नौज कर्नाटक कानपुर देहात कानपुर नगर काशीराम नगर कासगंज कुशीनगर कृषि कौशाम्बी खबरें खेरी खेल गाज़ियाबाद गाजीपुर गोंडा गौतम बुद्ध नगर चंदौली चित्रकूट देवरिया फतेहपुर फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बरेली बलरामपुर बलिया बहराइच बागपत बाँदा बाराबंकी बिजनौर बुलंदशहर राष्ट्रीय शाहजहांपुर
90 करोड़ लोगों को UIDAI ने दी राहत, नहीं बंद होंगे आधार से जारी मोबाइल नंबर
uidai, telecom ministry clarifies on mobile sim ekyc, aadhaar will not face disconnection
ख़बर सुनें

दूरसंचार मंत्रालय और यूनिक आईडेंटिफिकेश अथॉरिटी ऑफ इंडिया (यूआईडीएआई) ने देश भर के 90 करोड़ मोबाइल धारकों को राहत देते हुए कहा है कि आधार के जरिए पहले जारी हुए सभी मोबाइल सिम पहले की तरह चलते रहेंगे।

विज्ञापन के विजयदशमी एवं दिवाली ऑफर पर भारी 50% छूट 7905076066

संयुक्त तौर पर जारी किया बयान

संयुक्त बयान जारी करते हुए दूरसंचार मंत्रालय और यूआईडीएआई ने कहा है कि सर्वोच्च न्यायालय ने अपने आधार पर दिए गए फैसले में कहीं यह नहीं कहा है कि ईकेवाईसी के जरिए पहले जारी हुए सिम अवैध हो गए हैं।

बल्कि अगर कोई व्यक्ति पहले दिए गए आधार ईकेवाईसी को बदलवाना चाहता है तो उसके लिए वो स्वतंत्र है। इसके बदले उसें अपने किसी और पहचान पत्र को सत्यापित करने के लिए देना होगा। यह प्रमाण पैन कार्ड, वोटर आईडी, पासपोर्ट, बैंक पासबुक आदि के जरिए दिया जा सकता है।

कंपनियों ने सौंपी अपनी योजना

दूरसंचार कंपनियों ने यूआईडीएआई को इस संबंध में अपनी योजना सौंप दी है। हम इस पर गौर कर रहे हैं कि क्या विकल्प बेहतर हो सकता है। पहले इस तरह की खबर आई थी कि टेलीकॉम कंपनियों को ग्राहकों को दोबारा से सत्यापन कराना पड़ सकता है। ऐसे में दस्तावेज जमा करने के बाद ग्राहकों का सत्यापन होने में एक सप्ताह तक लग सकता है। अभी तक 90 करोड़ लोगों के मोबाइल कनेक्शन आधार से वेरीफाई हो चुके हैं।

हालांकि अभी सरकार हर पहलू पर विचार कर रही है और टेलीकॉम कंपनियों ने आधार से सत्यापन बंद करने के लिए वक्त मांगा है।

केवाईसी के लिए ये दिए सुझाव

टेलीकॉम कंपनियों ने नए ई-केवाईसी(अपने ग्राहक को जाने) के लिए दिए प्रस्ताव में ऐप आधारित पंजीकरण करने की बात कही है। इसमें सिम विक्रेता ग्राहक की फोटो खिंचेगा और ग्राहक द्वारा स्वत: प्रमाणित पहचान और निवास प्रमाण पत्र के साथ फॉर्म पर लगाएगा।

नई प्रणाली के तहत उपभोक्ता का फॉर्म और सभी दस्तावेज स्कैन किए जाएंगे। इसके बाद फॉर्म पर रिटेलर का नाम, किस सर्किल में यह प्रक्रिया हुई, समय और टेलीकॉम कंपनी का वाटर मार्क लगा दिया जाएगा ताकि ग्राहक द्वारा दिए गए दस्तावेज और फोटो का दोबारा इस्तेमाल न हो।

इसके बाद विक्रेता एप के जरिए उपभोक्ता का फॉर्म टेलीकॉम ऑपरेटर के पास भेजेगा ताकि इनका सत्यापन हो सके। सत्यापन के बाद ग्राहक को दिया गया नंबर कॉल द्वारा सत्यापित होगा। इसके साथ ही उपभोक्ता द्वारा दिए गए दूसरे नंबर पर एक पांच अंकों का पिन भेजा जाएगा। उपभोक्ता द्वारा या तो पिन के माध्यम से या फिर कॉल के माध्यम से सत्यापन कराए जाने के बाद नंबर चालू हो जाएगा।

जिओ ने शुरू की थी आधार से सत्यापन की प्रक्रिया

जिओ के ग्राहकों को सिम ही आधार से सत्यापन के बाद मिल रही थी। इसी के बाद साल 2017 में अन्य टेलीकॉम कंपनियों ने भी आधार से सत्यापन की प्रक्रिया शुरू की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *