प्रयागराज के कुंभ मेले में जाना चाहते हैं तो आपके लिये अति आवश्यक तथा बहुमूल्य जानकारियां

अन्य ख़बरें इलाहाबाद

यदि आप प्रयागराज के कुंभ मेले में जाना चाहते हैं तो आपके लिये अति आवश्यक तथा बहुमूल्य जानकारियां

संगम नगरी प्रयागराज कुंभ मेले में श्रद्धालुओं के स्वागत के लिये तैयार हैं।
पहला शाही स्नान 15 जनवरी मकर संक्रांति के दिन हैं।
यह मेला 14 जनवरी से शुरू होकर 4 मार्च महाशिवरात्रि तक चलेगा।
कुंभ में प्रमुख आकर्षण साधु संतों के अखाड़े हैं, इस बार कुंभ में 13 अखाड़ों के अलावा दो और अखाड़े किन्नर और महिला नागा साधुओं के अखाड़े भी शामिल हो रहे हैं।
शहर की सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद हैं।
सभी प्रमुख चौराहे सीसीटीवी कैमरों से लैस हैं।
इस बार कुंभ मेला क्षेत्र 45 किमी के दायरे में फैला है पहले यह 20 किमी के दायरे में होता था।

इस बार का कुंभ क्यों हैं खास

👉 कुंभ को पहली बार अंतरराष्ट्रीय आयोजन का दर्जा मिला है।

traffic 24-11-18

👉शहर में 15 फ्लाईओवर-अंडरब्रिज, 264 सड़कों का चौड़ीकरण हुआ है और 22 पान्टून ब्रिज बनाये गये हैं।

👉 मेला में 1.22 लाख बायो टॉयलेट, 1300 हेक्टेयर में 94 पार्किंग बनाए गये हैं तथा 20 हजार डस्टबिन रखे गये हैं।

👉 दुनियां के 71 देशों के राजदूतों ने इस आयोजन में उपस्थित होकर अपने अपने देशों के राष्ट्र ध्वज को यहां स्थापित किया है और इसे वैश्विक मान्यता दी है।

👉 शटल बस सेवा और ई-रिक्शा भी चलाई जा रही हैं मेले में विभिन्न बैंकों के 40 एटीएम लगाये गये हैं।

👉 10 हजार श्रद्धालुओं के लिये गंगा और 4 अन्य पंडाल बनाये गये हैं।

👉 योगी सरकार इस बार प्रयागराज कज किले में 450 सालों से कैद #अक्षयवट और #सरस्वती_कूप के भी दरवाजे खोल रही हैं, जिसका दर्शन इस कुंभ के दौरान श्रद्धालु कर पायेंगे।

👉 मेला क्षेत्र में रोज 500 सांस्कृतिक कार्यक्रम होंगे शहर में पहली बार 15 लाख वर्ग फीट में दीवारों को कलात्मक तरीके पेंट किया गया हैं।

👉रेलवे की व्यवस्था👇
सबसे पहले तो आपको यह बता दें कि मेला सरचार्ज के नाम पर वसूला जाने वाला #जजिया_कर इस बार रेलवे नहीं ले रही है।

👉 तीर्थ यात्रियों की सुविधा के लिये इस बार रेलवे ने मेला अवधि के दौरान 800 कुंभ स्पेशल ट्रेन चलाई हैं।

👉 श्रद्धालुओं की सहूलियत के लिये रेलवे ने प्रयागराज से गुजरने वाली नॉन स्टाप 100 ट्रेनों का अस्थाई ठहराव अलग-अलग स्टेशन पर किया है।

👉 प्रमुख स्नान पर्वों के दौरान स्टेशन पर अनावश्यक लोगों की भीड़ ना हो, कोई अव्यवस्था ना हो, इसके लिये रेलवे ने प्लेटफार्म टिकट वितरण पर रोक लगा दी है।

👉 स्‍पेशल ट्रेन चलाने के साथ ही कुंभ के दौरान अतिरिक्‍त टिकट काउंटर खुलेंगे।
यात्रियों को असुविधा न हो, इसके लियज सभी ट्रेनों पर कुंभ का लोगो भी लगा होगा।

👉 प्रयागराज जंक्शन पर करीब 10000 यात्रियों की क्षमता वाले चार रैन बसेरे बने हैं।
इन रैन बसेरों में वेंडिंग स्टॉल, वॉटर बूथ, टिकट काउंटर, एलसीडी टीवी, पीए सिस्टम और सीसीटीवी कैमरे होंगे।

👉उत्तर प्रदेश परिवहन विभाग की व्यवस्था👇

प्रयागराज के क्षेत्र में चार बस स्टैंड हैं, जहां देश के विभिन्न शहरों से आसानी से पहुंचा जा सकता है।
सिविल लाइन बस स्टैंड से मेला क्षेत्र मात्र पांच किमी की दूरी पर है।
इसके अलावा जीरो रोड बस स्टैंड 4.9 किमी, लीडर रोड बस स्टैंड 6.6 किमी और झूंसी बस डिपो की दूरी मेला क्षेत्र से मात्र 6.9 किमी दूरी पर है।
कुंभ के लिये 8,000 स्पेशल बसें उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम चलायेगा।

👉सबसे खास आकर्षण : कुंभ मेले के दौरान प्रयागराज में चारों दिशाओं से पहुंचने वाली बसों को आउटर पर ही रोक दिया जायेगा।
यहां से यात्रियों को कुंभ मेला स्थल तक पांच सौ शटल बसों के द्वारा मुफ्त में मेला क्षेत्र तक पहुंचाया जायेगा।
इन बसों में स्नान वाले दिन, उससे एक दिन पहले एक दिन बाद तक श्रद्धालुओं से किराया नहीं लिया जायेगा।
जैसे मकर संक्रांति 15 जनवरी को है ऐसे में शटल बसें 14 व 16 जनवरी को श्रद्धालुओं को फ्री सफर की सुविधा मिलेगी। बाकी दिनों में श्रद्धालुओं से शटल बसें पांच, दस व पंद्रह रुपये किराया लेंगी।

रुकने की व्यवस्था👇
कुंभ मेले में अगर आप टेंटों में रुकना चाहते हैं तो यहाँ सम्पर्क करें। कल्पवृक्ष (www.kalpvrikash.in, Mob-9415247600), कुंभ कैनवास (www.kumbhcanvas.com, Mob-6388933340), वैदिक टेंट सिटी (www.kumbhtent.com, Mob-9909900776), इंद्रप्रस्थम सिटी (www.indraprasthamcity.com, Mob-8588857881) की वेबसाइट या मोबाइल नंबर पर फोन करके अपनी बुकिंग करा सकते हैं।
इसके अलावा उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग (उत्तर प्रदेश सरकार) भी कुंभ मेला 2019 में पर्यटकों के रहने के लिये सुविधा दे रहा है जिसका कोई भी शुल्क देकर लाभ उठा सकता है। इसकी पूरी जानकारी इस वेबसाइट पर मिलेगी- www.ogabnb.com

बहरहाल, इस बार का कुंभ मेला बहुत अद्भुत होने वाला है उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने इस विश्वस्तरीय बनाने में कोई कसर नही छोड़ी हैं।
पूरी ताकत से प्रशासनिक अमला लगा हुआ हैं।
बांकी जो कुंभ मेलों में प्रयागराज पहले भी आ चुके हैं, उन्हें यह शहर और मेला दोनों ही बहुत बदले बदले नजर आयेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *